real cause of coronavirus

कोरोनावायरस के फैलने के पीछे क्या है कहानी ?

चलिए आज आप को इसके पीछे की पूरी कहानी सुनाते हैं – वो दिन एक आम दिन जैसा ही था लेकिन इस दिन सिर्फ़ एक चीज़ ख़ास हुई थी, वो चीज़ ऐसी थी कि भले ही उस चीज़ पर उस दिन किसी ने ध्यान नहीं दिया हो लेकिन आने वाले 8-9 महीने में वो एक शहर का हालात बद से बद्तर हो सकने के सम्भावना को बयान कर रही थी।

2 March 2019 को china में एक report पब्लिश हुई थी जिसके मुताबिक़ जो coronavirus चमगादड़ों में पाया गया था उसके बारे में complete डिटेल दी गई थी। साथ ही ये भी लिखा गया था की जो coronavirus चमगादड़ों में पाया गया है उसके दोबारा उत्पन्न होने की सम्भावना है ।

साथ ही उसमें ये भी चेताया गया था कि corona virus के दोबारा उत्पन होने का केंद्र भी China ही होगा। चुनौती बस इस चीज़ की दर्शाई गई थी की ये virus कब और कहाँ उत्पन्न होगा , ताकि सब इस virus से निपटने के लिए तैयार हो सके।

ऐसे में सवाल ये उठता है की जब 2 March 2019 को पब्लिश हुई रिपोर्ट के मुताबिक़ Decemeber 2019 में इस virus की पुष्टि की गई तो फिर समय रहते किसी भी संस्था ने कोई action क्यों नहीं लिया गया।

जबकि इस रिपोर्ट को ध्यान से देखने पे ये पता चलता है की ये रिपोर्ट 4 researcher ( YI-FAN, KAI-ZHAO, ZHENG-LI-SHI AND PENG ZHOU ) द्वारा लिखी गई थी। जिसमे की Wuhan institute of Virology का भी नाम स्पष्ट तौर पे देखा जा सकता है, जो की Wuhan में ही स्थित है।

कैसे फैला कोरोनावायरस (Coronavirus ) ? पढ़े पूरी जानकारी

Wuhan वो ही शहर है जंहां पर coronavirus फैलना शुरू हुआ था। जबकि ये भी देखा जा सकता है की ये research paper 29 Januray 2019 को recieve किया गया है। जानकारी के लिए बता दें की ये एक review paper है जिसको लिखने में कुछ समय लगता है यानी कि researcher इस paper को 2018 से लिख रहे थे। ये coronavirus के एक पहलु को दर्शाता है।

दूसरा पहलु कुछ और ग़ौर फ़रमाने वाले पहलुओं को दर्शाता है। जिसमें ये दावा किया जा रहा है कि Xi Jinping, जो की people republic of China के president है। जो अपनी तानाशाही के लिए भी खासे मशहूर हैं। उनके ऊपर आरोप लगाया जा रहा है की China में Coronavirus से हुए नुक़सान की पुष्टि साफ़ तौर से नहीं की गई है क्योंकि उन आँकड़ों को बदल के प्रस्तुत किया जा रहा है।

साथ ही ये भी माना जा रहा है की China में CoronaVirus फैलने के कई दिनों बाद coronovirus की पुष्टि की गई। यंहाँ तक की China के एक डॉक्टर जिन्होंने सबसे पहले Coronavirus की पुष्टि करने की कोशिश की थी, उनका मुँह बंद करा दिया गया था। बाद मैं उनकी मौत की ख़बर सामने आई थी।

इन सब पहलु को मद्देनज़र रखा जाये तो क्या ये China की किसी प्रकार की साज़िश के होने का इशारा कर रही है। क्योंकि अगर हम एक channel द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट पे ग़ौर फ़रमाएँगे तो हमको ये पता चलता है की China Coronavirus का काफ़ी दिनो से लैब टेस्ट कर रहा था ओर genetic mutation के ज़रिए इसको इंसान को नुक़सान पंहुचा सकने वाले virus में तब्दील कर रहा था।

China Coronavirus को एक bio-weapon की तरह इस्तेमाल करना चाहता था। लेकिन china coronavirus का anti – dode बना पता उससे पहले ही ये Virus wuhan की एक लैब से लीक हो गया। जिसके कारण coronavirus के फैलने की ख़बर को कई दिनो से छुपा के भी रखा गया।

Immune System क्या है ? यह Coronavirus से किस प्रकार सम्बंधित है ?

तो क्या हमको ये मान लेना चाहिए की CoronaVirus China में china की ही गलतीयों से फैला। जिसका China आज भुगतान कर रहा है। या फिर ये उस लम्बी कहानी की एक छोटी सी कड़ी है जो की Xi Jingpin के शैतानी दिमाग़ का एक घिनौना पहलु भी दर्शाती है।

ये वो पहलु है जिसमें कोई इंसान पैसा कमाने में इतना अंधा हो जाता है की उसको सही ओर ग़लत का कोई भी अंतर नहीं पता चलता क्योंकि उसको बस पैसा कमाना है ओर मेरे ख़याल से मुझे ऐसी चीज़ों के बारे में बताने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।

जो China आम आदमी के स्वस्थ की परवाह किए बग़ैर कभी नक़ली अंडों, प्लास्टिक के चावल और ऐसी ही काफ़ी सारी चीज़ें, जिसको खा के कोई भी बेहद बीमार हो सकता है, उसका निर्यात सिर्फ़ पैसा कमाने के नज़रिए से कर सकता है। तो ये भी हो सकता है की China coronavirus के पूरे दुनिया मैं फैलने का इंतेज़ार कर रहा हो, जिसके बाद China Coronavirus के anti – dode के ज़रिए millions of dollar कमाने के जुगाड़ में हो। जिससे मौत का सौदागर बन के लोगों का मसीहा बना जा सके ओर पैसे भी कमाए जा सके।

ख़ैर इस बात में कितनी सचाई है ये तो अभी सिद्ध नहीं किया जा सकता लेकिन हाँ अगर ये बात सच है तो वक़्त आने पर यह सब जान जाएँगें की China मौत का सौदागर है या लोगों का मसीहा।

Leave a comment